top of page

श्रीरामचरितमानस

"यह वचन सुनते ही रावण को क्रोध आ गया, परंतु मन में उसने सीता जी के चरणों की बन्दना करके सुख माना।"

अरण्यकांड ,पेज नंबर 565,

दोहा 28

रावण को अपनी मृत्यु श्री राम के हाथों ही चाहिए थी इसलिए उसने सीता रूपी शक्ति का हरण किया , नहीं तो वह लंका तक कैसे पहुंचते । उनके वनवास का तो मात्र 1 साल ही शेष रह गया था । उसने सीता माता का हरण करके राम को अपने वध के लिए ललकारा था।

जीवन में जो परिस्थिति देखने में जितनी भी विषम दिखे। यह याद रखिएगा अगर वह पार कर गए तो उतना ही बड़ा सुख मिलेगा।

8 views0 comments

Recent Posts

See All

समदृष्टि

आज कविता सुबह-सुबह कार्य में व्यस्त थी क्योंकि आज उसकी सासू मां तीर्थ कर लौट रही थी।कविता के दरवाजे की घंटी बजी तो वह हाथ का काम छोड़ कर दरवाजा खोलने जाने लगी उसने सोचा सासू मां आ गई लेकिन जब तक वह दर

Comentários


bottom of page