top of page

मार्गदर्शक

जीवन में आपको बहुत से मार्ग मिलते हैं चलने के लिए आप उनमें से कोई भी रास्ता चुन लेते हैं अपना जीवन काटने के लिए परंतु पथ प्रदर्शक वह होता है जो अपने पथ का निर्माण खुद करता है।

खुद के पथ का निर्माण करना सरल नहीं होता क्योंकि आगे आपको कुछ दिखाई नहीं देता । हमारे विचार ,आत्मबल और दृढ़ निश्चय ही हमारे साथी होते हैं और यही पथ प्रदर्शक के औजार भी होते हैं जिससे वह अपने पथ का निर्माण करता है।

मार्गदर्शक को हमेशा अकेले ही चलना होता है । बाकी सब उसका अनुसरण कर सकते हैं स्वयं को मिटा कर ही कोई किसी को रोशनी दे सकता है ।मार्गदर्शक को अपने ऊपर सबसे ज्यादा ध्यान देना होता है ।

उसे संभालने वाला कोई नहीं होता है उसे खुद गिरना है और खुद ही उठना है।

जो व्यक्ति अपने अंदर की लौ को जलाकर रखता है वही किसी के मार्ग का दर्शन कर सकता है और मार्गदर्शक बन सकता है।


16 views0 comments

Recent Posts

See All

समदृष्टि

आज कविता सुबह-सुबह कार्य में व्यस्त थी क्योंकि आज उसकी सासू मां तीर्थ कर लौट रही थी।कविता के दरवाजे की घंटी बजी तो वह हाथ का काम छोड़ कर दरवाजा खोलने जाने लगी उसने सोचा सासू मां आ गई लेकिन जब तक वह दर

Comments


bottom of page