धन्यवाद

जीवन में आने वाली हर परिस्थिति, व्यक्ति, समस्याओं को हमें हृदय से धन्यवाद बोलना चाहिए। जो व्यक्ति हमारे पास रहता है, वह कहीं ना कहीं हमारे हित के लिए ही होता है। अगर वह गलत कर रहा है तो भी हम कुछ उससे सीख रहे हैं। हमेशा यही उपमा दी जाती है कि कीचड़ में ही कमल खिलता है। कमल की महानता ही यह है कि कीचड़ में रहकर भी वह खिल रहा है। इसी तरह कितनी भी विषम परिस्थितियों क्यों ना हो उनका सामना करते हुए मुस्कुराते रहो। कुछ अच्छा होने की आशा रखो। आशा की एक किरण ही आपको संकटों से पार लगा सकती है।


14 views0 comments

Recent Posts

See All

आज कविता सुबह-सुबह कार्य में व्यस्त थी क्योंकि आज उसकी सासू मां तीर्थ कर लौट रही थी।कविता के दरवाजे की घंटी बजी तो वह हाथ का काम छोड़ कर दरवाजा खोलने जाने लगी उसने सोचा सासू मां आ गई लेकिन जब तक वह दर